‘‘पर्यावरण प्रहरी’’ कार्यक्रम

उद्देश्यः- राज्य के नागरिकों में पर्यावरण संरक्षण की चेतना के विकास के साथ-साथ उन्हें पर्यावरण विधियों एवं नियमावलियों के पालन के सचेतक एवं प्रहरी के रूप में विकसित किया जाना।

लक्षित समूहः- सामान्य जागरूक नागरिक, विद्यार्थीगण, शिक्षक एवं जागरूक कर्मचारी।

कार्यक्रम की रूपरेखाः- इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से इच्छुक लक्षित समूहों के ग्रुप को उ0प्र0 प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा कार्यक्रम में पर्यावरण क्षेत्र में कार्य करने वाले विशेषज्ञों आदि के द्वारा ‘‘एक दिवसीय प्रशिक्षण’’ करवाया जायेगा, जिसमें मुख्य रूप से निम्न बिन्दुओं को सम्मिलित किया जायेगाः-

स्वच्छता सेवक

इस योजना के अन्तर्गत स्वच्छता सेवकों यथा कचरेवालों, कबाड़ीवालें एवं कबाड़ व्यवसायियों को ठोस अपशिष्ट प्रबंधन नियम, 2016 के प्राविधानों के अनुसार निःशुल्क पंजीकरण सुविधा उपलब्ध होगी। पंजीकृत स्वच्छता सेवकों को उ0प्र0 प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा क्षमता विकास हेतु आवश्यक प्रशिक्षण दिया जोयगा ताकि वे ठोस अपशिष्ट के संग्रहण, पृथक्कीकरण, अभिवहन एवं निस्तारण के औपचारिक तंत्र में सम्मिलित होकर शासकीय योजनाओं का लाभ प्राप्त कर सकें। उ0प्र0 प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा पंजीकृत स्चच्छता सेवकों को उद्योगों के सामाजिक दायित्व के माध्यम से कचरा एकत्रीकरण टूल्स एवं गियर यथा दस्ताने, गमबूट्स, एकत्रीकरण रॉड, छड़ी, अपशिष्ट थैला व स्वास्थ्य परीक्षण इत्यादि की सुविधायें उपलब्ध कराई जायेगी।

अधिक जानकारी

जन जागरूकता